mobile fingerprint scanner kya hai or kaise kaam karta hai

fingerprint scanner kya hai फिंगरप्रिंट स्कैनर मोबाइल या किसी भी डिवाइस में लगा वो पार्ट है जहा फिंगर टच करने पर आपकी फिंगर की लाइनों को स्कैन करता है और उसे डिजिटली स्टोर करता है ओर बाद में उसे वेरिफिकेशन के लिये उसी डिजिटल इमेज का यूज़ करता है।

Fingerprint kya hai फिंगरप्रिंट आपकी फिंगर्स पर बनी लाइन्स जोकि हर एक व्यक्ति की अलग होती है और उनका अपना एक पैटर्न होता है उसी को फिंगरप्रिंट कहते है ।

फिंगरप्रिंट स्केनर आज के समय में आम चीज़ हो गयी है जोकि आपको हर एक स्मार्टफोन में देखने को मिलता है। चलिए जानते है डिटेल में फिंगरप्रिंट कैसे काम करता है और यह कितने प्रकार का होता है।

Fingerprint Scanner kaise kaam krta hai

जब आप अपनी फिंगर या थम्ब को कैपेसिटिव प्लेट या अल्ट्रासोनिक स्कैनर पर टच करते है, तब आपके फिंगर पर बने यूनिक पैटर्न को लाइट या इलेक्ट्रिक सिंग्नल्स के जरिये स्कैन करके उसको डिजिटल इमेज के रूप में कैपेसिटर में स्टोर किया जाता है ताकि वेरिफिकेशन में उसको यूज़ किया जा सकते

kitne type ke hote hai

फिंगरप्रिंट स्केनर तीन प्रकार के होते है Optical, Capacitive, Ultrasonic स्मार्टफोन में कैपेसिटिव ओर अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट स्कैनर है यूज़ किये जाते है। ऑप्टिकल का यूज़ स्मार्टफोन में नही किया जाता 

तो हम यहाँ कैपेसिटिव ओर अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट स्केनर के बारे में जानेंगे

Capacitive Fingerprint Scanner

स्मार्टफोन में पीछे की तरफ या साइड में जो फिंगरप्रिंट स्कैनर लगा होता है उसे कैपेसिटिव प्लेट कहते है जब आप अपने स्मार्टफोन में फिंगरप्रिंट सेट करते है, तब वह कैपेसिटर जो कि उस प्लेट से लगे होते है उनमें आपकी फिंगर्स की डिजिटल इमेज स्टोर की जाती है, स्मार्टफोन में ऐसे कई कैपेसिटर लगे होते है जोकि ये डेटा स्टोर रखते है। 

अगर आप नही जानते कैपेसिटर क्या होता है तो आपकी जानकारी के लिये बतादे ये एक छोटासा डिवाइस होता है.

 जिसके दो टर्मिनल लगे होते है कैपेसिटर इलैक्ट्रिकल एनर्जी को डेटा के रूप में स्टोर करता है प्रिंटेड सर्किट बोर्ड पर देखा होगा आपने PCB पर छोटे छोटे कैपेसिटर लगे होते है। 

यही चीज़ आपके फिंगरप्रिंट स्कैनर से जुड़ी होती है और उस प्लेट को कैपेसिटिव प्लेट कहते है।

Ultrasonic Fingerprint Scanner

अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट Qualcomm कंपनी का बनाया हुआ फिंगरप्रिंट स्कैनर है। 

यह 3D तकनीक पर काम करता है। आपने देखा होगा ऐसे स्मार्टफोन मार्किट में आ गए है 

जिनकी स्क्रीन में फिंगरप्रिंट स्कैनर लगा होता है वही अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट होता है

 इस फिंगरप्रिंट स्कैनर में आपकी फिंगर या थंब की लाइन्स का 3D पैटर्न मोबाइल में लगे कैपेसिटर में स्टोर किया जाता है यह तकनीक काफी सटीक है।

 क्योकि इसमे एक 3D इमेज जिसको की डिजिटल इमेज के रूप में स्टोर किया जाता है।

ओर इसके विपरीत कैपेसिटिव स्कैनर में 2D डिजिटल इमेज स्टोर की जाती है

अल्ट्रासोनिक स्कैनर में एक लाइट आपके फिंगर पर आती है ओर जब वह आपकी फिंगर से टकराकर वापस लौटती है उसी पैटर्न को कैपेसिटर द्वारा 3D इमेज के रूप में स्टोर किया जाता है।

इस आर्टिकल में आपने जाना कि फिंगरप्रिंट क्या होता है और यह कैसे काम करता है साथ ही फिंगरप्रिंट कितने प्रकार के होते है। फिंगरप्रिंट से जुड़ा आपका कोई भी सवाल हो तो कमेंट में जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *